Share on Google+ Email
प्रेम में मनुष्य सब कुछ दे कर भी यही सोचता है कि अभी कम दिया।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment