Share on Google+ Email
बुद्धि वैभव चमत्कारी तो है पर हृदय की विशालता से बढ़कर उसकी गरिमा है नहीं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment