Share on Google+ Email
ज्ञान और आचरण में जो सामंजस्य पैदा कर सके, उसे ही विद्या कहते हैं।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment