Share on Google+ Email
दूसरों के साथ वह व्यवहार न करो, जो तुम्हें अपने लिए पसंद नही |


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment