Share on Google+ Email
वीरों का मन न वज्र से टूटता है और न प्रलोभन की कीचड़ में फिसलता है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment