Share on Google+ Email
अनजान होना उतनी लज्जा की बात नहीं, जितनी सीखने के लिए तैयार न होना ।।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment