Share on Google+ Email
सभ्यता चरित्र का वह स्वरूप है जो मनुष्य कर्तव्य का मार्ग दर्शाती है।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment