Share on Google+ Email
चार मंत्र - व्यस्त रहें- मस्त रहें, सुख बाँटे- दुःख बटायें, मिल- बाँटकर खाएँ, सलाह लें- सम्मान दें।


Pandit Shriram Sharma Acharya
Comments

Post your comment