भाव संवेदना

प्रसन्न रहने के दो ही उपाय हैं, आवश्यकताएँ कम करें और परिस्थितियों से तालमेल बिठायें।

img

Published Quotes