मानवीय गरिमा

घमण्डी के लिए कहीं कोई ईश्वर नहीं, ईष्यालु का कोई पड़ोसी नहीं और क्रोधी का कोई मित्र नहीं।

img

Published Quotes