Text Quotes


Chintan Quotes

आध्यात्मिक चिंतन धारा


प्रगतिक्रम- व्यक्तित्व में प्रगति का क्रम बराबर बना रहे, इसके चार सूत्र हैं- आत्म समीक्षा, आत्म शोधन, आत्म निर्माण एवं आत्म विकास।
() आत्म समीक्षा- हम वर्तमान में किस स्तर पर हैं...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


प्रशंसा का सबसे बड़ा कदम यह है कि आदमी अपनी समीक्षा करना सीखे, अपनी गलतियों को समझे- स्वीकार करे और अगला कदम यह उठाये कि अपने को सुधारने के लिए अपनी...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


सोचो तुम क्या हो?
परिवर्तन संसार की जान है। जिसको मौत समझते हो, वही जीवन है। क्षण भर में तुम करोड़ों के वारिस और क्षण भर में लावारिस बन जाते...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


वास्तविक अध्यात्म :-
सच्चरित्रता, सदाचार, संयम, परमार्थ जैसे गुणों पर आधारित अध्यात्म ही सच्चा अध्यात्म है। अपने गुण, कर्म, स्वभाव का शोधन और जीवन विकास के उच्च गुणों का अभ्यास करना...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


सद्गुरु को बना लें अपना नाविक:-
मनुष्य जीवन भी एक यात्रा है। जिसमें पग- पग पर कठिनाइयों के महासागर पार करने पड़ते है। इन्द्रियों की लालसाऍं- मन में पनपते...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

आध्यात्मिक चिंतन धारा


आशा आध्यात्मिक जीवन का शुभ आरम्भ है। आशावादी व्यक्ति सर्वत्र परमात्मा की सत्ता विराजमान देखता है। उसे सर्वत्र मंगलमय परमात्मा की मंगलदायक कृपा बरसती दिखाई देती है। सच्ची शान्ति, सुख और...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img