Text Quotes


Chintan Quotes

गायत्री और यज्ञ


आदर्शवादी और उत्कृष्टतावादी चिंतन के साथ जब गायत्री उपासना की जाती है, तो उसे सोने में सुहागा मिलने की तरह सराहा जाता है। इस सम्बन्ध में अपना दृष्टिकोण साफ रखना चाहिये कि उपासना का जितना महत्व है, उतना ही,बल्कि उससे भी कहीं अधिक महत्व साधना का है।

...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img

गायत्री और यज्ञ


जो सत्यवान नहीं है, जिन्होंने अपना सारा जीवन झूठवान बना करके रखा है, जिसके व्यवहार में झूठ, विचारों में झूठ, नियम में झूठ, रोम- रोम में झूठ भरा पड़ा है। उसका यदि ख्याल...View More
Pandit Shriram Sharma Acharya
img